Categories
Other

WHO ने कोरोना के इ-ला-ज में भारत द्वारा भेजी गई दवा का ट्रायल रोका, WHO पर उठे सवाल

जब पूरी दुनिया कोरोना से त्रस्त थी तब भारत ने कई देशों में म’लेरि’या की दवा हाइ’ड्रोक्सी’क्लोरो’क्वीन की सप्लाई की. कई देशों का कहना था कि ये दवा कोरोना के इ’लाज में कारगर सिद्ध हो रही है. भारत ने दुनिया भर में ये दवा भेजी और कई देशों इसके लिए पीएम मोदी और भारत की तारीफों के पुल बाँध दिए. इस दवा ने भारत की साख को कई गुना बढ़ा दिया. लेकिन अब WHO ने इस दवा के ट्रायल पर रोक लगा दी है. WHO ने ये कदम एक पत्रिका द लैंसेट में प्रकाशित एक रिपोर्ट के आधार पर उठाया है, जिसमे दावा किया गया है कि हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन से मरीजों को फायदा होने की बजाये नु’कसा’न हो रहा है. द लैंसेट ऐसी मैगजीन है जो स्वास्थ्य के क्षेत्र में दुनियाभर के रिसर्च प्रकाशित करती है. भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर त’नाव के दौरान WHO के इस कदम को लोग WHO और चीन के बीच सांठ-गाँठ के तौर पर देख रहे हैं और सोशल मीडिया पर सवाल उठा रहे हैं.

शुक्रवार को द लैंसेट ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) लेने वाले कोरोना मरीजों के मौ-त की संख्या HCQ नहीं लेने वाले मरीजों की संख्या में ज्यादा है. WHO ने हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) समेत तीन और दवाओं का रैंडमाइज्ड ट्रायल शुरू किया था. इस ट्रायल का मकसद कोविड-19 के इलाज के लिए दवाई ढूंढना था. लेकिन अब WHO ने सिर्फ हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) के ट्रायल पर ही रोक लगाई है. जिसके बाद ट्विटर पर लोग WHO की मंशा पर शक जाहिर करने लगे. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) की काफी तारीफ कर चुके हैं और WHO को चीन के प्रभाव में होने की बात कह उसकी फंडिंग भी रोक चुके हैं. अब सोशल मीडिया पर लोग भी कह रहे हैं कि WHO भरोसे के काबिल नहीं रहा. पहले तो उसने कोरोना पर दुनिया भर को भ्रमित किया और अब जिस दवाई की सबसे ज्यादा मांग है उसी के ट्रायल पर रोक लगा दिया.

WHO द्वारा हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) पर रोक के बावजूद ब्राजील ने कहा ही कि वो हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) का ट्रायल जारी रखेगा क्योंकि ये दवा उसके देश में लोगों को फायदा पहुंचा रही है. जब भारत ने ब्राजील को हाइ’ड्रोक्सी’क्लो’रोक्वीन (HCQ) की दवा भेजी थी तो ब्राजील के राष्ट्रपति ने भारत के मदद की तुलना संजीवनी बूटी और हनुमान से करते हुए पीएम मोदी की तारीफ़ की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *