Categories
News

विकास दुबे पर दर्ज हैं उम्र से ज्यादा मामले दर्ज, जानिए कैसे बना वो अपराध की दुनिया का बादशाह

कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की ह’त्या करने वाला कु’ख्यात गैं’गस्टर विकास दुबे फरार है. उसे पकड़ने के लिए यूपी पुलिस की 20 टीमें रात दिन एक किये हुए है. पुलिस को आशंका है कि वो नेपाल फरार हो सकता है. इसलिए नेपाल बॉर्डर पर उसके पोस्टर लगाये गए हैं. विकास का पता बताने वाले को 50 हज़ार रुपये इनाम देने की घोषणा की गई है लेकिन इसके बावजूद अब तक विकास का कोई सुराग नहीं मिल पाया है. इसी बीच पुलिस जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं.

जानकारी के लिए बता दें विकास दुबे का इतिहास हर किसी को चौंकाने वाला है क्योंकि उसके नाम पर उम्र से ज्यादा अ’पराधिक मा’मले द’र्ज हैं. विकास को शुरू से ही अ’पराध की दुनिया में कदम रखने के काफी शौ’क था. चलिए बताते हैं कि आपको कैसे वो अ’पराध की दुनिया का बेताज बादशाह बन गया. विकास ने 28 साल पहले साल 1992 में गाँव के ही द’लित यु’वक की ह’त्या कर अ’पराध की दुनिया में पहला कदम रखा था.

गाँव के युवक की ह’त्या करने के बाद उसने एक स्कूल के प्रिंसिपल को मा’रा, इसके बाद उसने भाजपा के दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की शिवली थाने के सामने गो’ली मा’रकर ह’त्या करके स’न’सनी फैला दी थी. एक के बाद एक ह’त्या करने के बाद ये उसके लिए आम काम बन गया और वो अप’राधिक घटनाएं करता चला गया. 50 साल की उम्र में विकास पर 5 ह’त्याओं के केस दर्ज हैं. इतना ही नहीं अन्य गं’भीर धा’राओं में 71 केस उसपर द’र्ज हैं.

गौरतलब है कि 50 साल के विकास ने प्रॉपर्टी विवाद में सबसे पहले गाँव के ही छुन्नालाल को गो’लि’यों से भू’न दिया था और जरायम की दुनिया में कदम रखा. इस घ’टना के बाद उसका इलाके में दबदबा बनता गया और फिर उसने 40 बीघा जमीन के लिए साल 2000 में प्रिंसिपल सिद्धेश्वर पांडेय की ह’त्या कर दी थी. ये मामला ठंडा हुआ ही नही था कि उसने अगले साल ही 2001 में भाजपा के राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की थाने में घु’सकर गोली मा’रकर आसपास के इलाके में स’नस’नी फैला दी थी. इसके बाद फिर वो लू’ट, जा’लसाजी और ड’कैती जैसी घ’टनाओं को अंजाम देता गया. इस समय चोबेपुर थाने में ही उसपर 60 मामले द’र्ज हैं. विकास दुबे ने अपने चचेरे भाई अनुराग दुबे तक को नहीं छोड़ा. विकास ने जे’ल में रहकर ही अनुराग को मा’रने की सु’पारी दी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *