Categories
Other

जानिये इस खिलाड़ी के बारे में जिन्हें रवि शास्त्री के आते ही बिना बताए टीम इंडिया से कर दिया गया बाहर!

इंडियन प्रीमियर लीग में वह किंग्स इलेवन पंजाब, डेक्कन चार्जर्स और कोलकाता नाइटराइडर्स के सहायक कोच रह चुके हैं. कैरेबियाई प्रीमियर लीग (सीपीएल) में वह सेंट लूसिया और सेंट कीट्स और नेविस के सहायक कोच की भूमिका निभा चुके हैं. हाल में वह बारबाडोस ट्रिंडेंट के कोचिंग स्टाफ के सदस्य थे. रवि शास्त्री के आते ही बिना बताए टीम इंडिया से निकाले गये थे यह. आइये जानते है पूर्व में खिलाड़ी जो अब कोच बन चुके हैं उनका नाम.

भारतीय टीम के पूर्व फील्डिंग कोच ट्रेवर पेनी को वेस्टइंडीज की टीम ने नई जिम्मेदारी दी है. उन्हें विंडीज ने टी20 और वनडे फॉर्मेट के लिए सहायक कोच नियुक्त किया है. वॉरविकशर के पूर्व क्रिकेटर पेनी को क्रिकेट वेस्टइंडीज ने दो साल का अनुबंध सौंपा है. क्रिकेट वेस्टइंडीज ने बयान में कहा कि 51 वर्षीय पेनी की विशेषज्ञता फील्डिंग है और वह सफेद गेंद के फॉर्मेट में वेस्टइंडीज की टीमों के साथ काम करेंगे. पेनी दो जनवरी को वेस्टइंडीज की टीम से जुड़ेंगे. टीम तब आयरलैंड के खिलाफ आगामी घरेलू श्रृंखला के लिये तैयारियां शुरू करेगी. बता दें वेस्टइंडीज और आयरलैंड के बीच 3 वनडे और 3 टी20 मैचों की सीरीज खेली जाएगी.

बता दें ट्रेवर पेनी 2011 में भारत के फील्डिंग कोच बने थे. उन्होंने डंकन फ्लेचर के साथ मिलकर काम किया था. उनके रहते टीम इंडिया ने चैंपियंस ट्रॉफी 2013 जीती. हालांकि अगले साल ही 2014 में उन्हें बिना बताए टीम से हटा दिया गया. साल 2014 में जब रवि शास्त्री टीम इंडिया के डायरेक्टर पद पर नियुक्त हुए तो उन्हें बिना बताए 3 महीने की छुट्टी पर भेज दिया गया. इसके बाद पेनी की कभी वापसी नहीं हुई.

पैनी ने कहा, ‘मैं इस बात से बेहद खुश हूं कि मुझे बेहतरीन खिलाड़ियों और कीरोन पोलार्ड तथा फिल सिमंस के साथ काम करने का मौका दिया गया है. मैंने बीते कुछ वर्षो में कुछ अच्छी टीमों के साथ काम किया है और कैरिबियन मेरे लिए घर की तरह है क्योंकि मैं काफी हद तक कैरेबियन प्रीमियर लीग (सीपीएल) से जुड़ा रहा हूं. हमारे सामने दो टी-20 विश्व कप हैं और मेरी कोशिश रहेगी की मैं हर किसी को सुधार करने में मदद कर सकूं और इतना बेहतर कर सकूं कि हम आईसीसी के दो बड़े टूर्नामेंट जीत सकें.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *