Categories
Other

लिं’चिंग में मा’रे गए साधु सुशील गिरि की माँ ने अपने संन्यासी बेटे के लिए माँगा न्याय

जबसे कोरोना वायरस ने अपने पैर पसारने शुरू किये हैं तबसे महाराष्ट्र चर्चा का विषय बना हुआ है. देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा लोग महाराष्ट्र से मिले हैं. वही महाराष्ट्र के पालघर से एक दर्द’नाक घ’टना सामने आई है. जहाँ पर लोग पूरी तरह से रा’क्षस बन चुके हैं और पुलिस भी एस अलग रहा था उन्ही रा’क्षस का ही साथ दे रही थी.

महाराष्ट्र के पालघर में साधुओं की नि’र्मम ह’त्या की गई है. मुंबई के पालघर में आज मॉ’ब लिं’चिंग की घ’टना को लेकर सभी लोग गु’स्से से आ’ग बबू’ला हो रहें हैं. इस मॉ’ब लिं’चिंग घट’ना की आ’ग यूपी तक पहुंच गई है. मॉ’ब लिं’चिंग में मा’रे गए संत सुशील गिरि यूपी के सुलतानपुर के रहने वाले थे. उनकी ह’त्या की खबर से गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है. लोगों में शो’क के साथ-साथ आ’क्रोश भी है. सुशील की मां ने अपने बेटे के लिए न्या’य की मांग की है.

बता दें कि 17 अप्रैल को कांदिवली से सूरत जा रहे सुशील गिरि समेत तीन लोगों की पालघर के नजदीक पीट-पीटकर ह’त्या कर दी गई. मा’मले में अब तक 110 की गि’रफ्तारी हो चुकी है. सुशील गिरि सुलतानपुर जनपद के चांदा थाना क्षेत्र के प्रतापपुर कमैचा (चांदा बाजार) के निवासी थे. अभी कुछ महीने पहले वह भिक्षा लेने गांव आए थे और मां का हालचाल लिया था. घर वालों के समझाने के बाद भी वह संन्यास छोड़ने को तैयार नहीं हुए और वापस लौट गए. मौ’त की सूचना पर उनके घर पर मा’तम छाया हुआ है. परिजनों में शो’क की लहर है.

संत सुशील गिरि का बचपन का नाम शिवनारायण उर्फ रिंकू दुबे था. जिन्होंने सन्यासी का रूप ले लिया था और अपना घर परिवार सब छोड़ दिया था. लेकिन आज मुंबई के अंदर रावण’राज होने की वजह से लोगों ने उनकी ह’त्या कर दी और पुलिस सिर्फ देखती रही. पुलिस वालों का काम होता है कि लोगों कि सुरक्षा की जाये लेकिन वहां पर बिलकुल इसके विपरीत दिखा. जिसकी वजह से आज इतना ज’घन्य अ’पराध किया गया हैं साधुओं के साथ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *