Categories
News

कानपुर मुठभेड़ केस में चौबेपुर SO विनय तिवारी पर गिरी गाज, प्रशासन ने उठाया कड़ा कदम

कानपुर कल से हाईलाइट हो रखा हैं. उसका कारण है कि कल पुलिसकर्मियों पर घा’त लगाकर ब’दमाशों ने अं’धाधु’न्द फाय’रिंग करना शुरू कर दिया है और उसमे डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शही’द ही गये थे. जिसके बाद यूपी पुलिस एक्शन मोड में आ गई हैं और विकास दुबे मामले की जांच को एसटीफ को दे दी गई हैं. जिसके बाद एक बड़ा खुलासा हुआ हैं. इस जांच में पता चला है कि कुछ पुलिस वाले भी विकास दुबे के साथ संपर्क में थे. जिसमे की थानाध्यक्ष विनय तिवारी के ऊपर गाज गिरी हैं.

कानपुर में पुलिस पर ह’मला होने के बाद कार्य’वाई तेज़ हो गई हैं. चौबेपुर थाने के थानाध्यक्ष विनय तिवारी को हटा दिया गया है और एसटीएफ की पूछताछ जारी है. तिवारी पर गोपनीय सूचना लीक करने का आ’रोप है. पुष्पराज सिंह को चौबेपुर थाने का चार्ज दिया गया है. यूपी एसटीफ के द्वारा सभी चश्मदीद और जो संदे’ह के घेरे में हैं, उनसे पूछताछ की जा रही है.

पता ये भी चला है कि विनय तिवारी को लेकर शक इसलिए भी ज्यादा गहराया क्योंकि वह विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम में सबसे पीछे थे. जब पुलिस पर बदमा’शों ने ह’मला किया तो वह मौके से भाग निकले. बता दें कि विकास दुबे की ह’त्याकां’ड से 24 घंटे पहले तक की कॉल डीटेल्स पुलिस ने निकाल ली है. खबर ये भी है कि पुलिस के कई लोग इस ह’त्यकांड में मिले हुए है.

सत्रों के अनुसार जो कॉल डीटेल्स सामने आई हैं, उस आधार पर ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि पुलिस की रेड होने वाली है, इस खबर को विकास दुबे तक किसी पुलिसवाले ने ही पहुंचाया है.  पता ये भी चल है की विकास दुबे नेपाल भाग सकता है. जिसको देखत हुए लखीमपुर खीरी की पुलिस भी अलर्ट मोड पर आ गई हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *