Categories
News

कानपुर मु’ठभेड़ में घा’यल SO ने बताया उस रात क्या हुआ?

गैं’गस्टर विकास दुबे जिसकी तलाश में पिछले तीन दिन से पुलिस रात दिन एक कर के उसको ढ़ूंढ़ रही है. लेकिन अभी तक विकास दुबे हाँथ नहीं लगा हैं. कभी पता चलता है कि वो नेपाल भागने की कोशिश में है तो कभी वो मध्य प्रदेश जाने की अटकलें लगती रही हैं. कल विकास दुबे की लास्ट लोकेशन औरैया में पता चला था. कानपुर ह’त्याकां’ड में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गये थे. ये सभी लोग विकास दुबे को पकड़ने गए थे. लेकिन इस मामले में एक और खुलासा किया है बिठूर थाने के SO कौशलेन्द्र प्रताप ने पूरी बात बताई हैं.

कौशलेन्द्र परताप ने बताया की ये ह’मला कैसे हुआ, किसने किया और क्यों किया? जो पुलिस टीम विकास दुबे के घर उसको पकड़ने गई थी. उस पुलिस टीम में शामिल बिठूर थाने के एसओ कौशलेंद्र प्रताप इस वक्त अस्पताल में इलाज करा रहे हैं. इनकी जा’न तो बच गई लेकिन उस रात इन्होंने जो देखा वो बेहद खौ’फनाक था.

कौशलेंद्र सिंह बिठूर थाने के एसओ हैं लेकिन वो चौबेपुर थाना क्षेत्र में मौजूद बिकरू गांव विकास दुबे को पकड़ने गए थे. कौशलेंद्र प्रताप ने बताया कि ‘जिस दिन घ’टना हुई थी, उस दिन मुझे एसओ चौबेपुर द्वारा फोन पर सूचना दी गई थी कि एक दबि’श में चलना है. हम लोग थाने से रात करीब 12:30 बजे निकल गए थे. वहां रात करीब 1 बजे पहुंचे हैं.’

कौशलेंद्र प्रताप पुलिस टीम के बाकी साथियों के साथ विकास दुबे के घर से करीब 200 मीटर पहले ही गाड़ी छोड़कर पैदल जाने लगे. किसी को नहीं पता था कि हि’स्ट्री’शीटर और शा’तिर गैं’गस्टर विकास दुबे को पुलिस के आने की सूचना पहले ही मिल गई थी. विकास दुबे ने पहले ही पूरा मैदान तैयार कर के रखा था. विकास दुबे ने घर के बाहर जेसीबी मशीन खड़ी कर दी ताकि पुलिस टीम घर तक न पहुँच पायें और एक जगह इकठ्ठी मिल जाये और वैसा ही कुछ हुआ भी. उसके बाद जैसे ही पुलिसवाले जेसीबी मशीन को एक-एक करके पार करने लगे. उसके बाद छतों से गो’लियों की बौछार शुरू हो गई.

बिठूर के SO कौशलेन्द्र परताप ने बताया कि ‘हम लोग जैसे ही एक-एक करके घर के नजदीक पहुंचे तभी हमारे ऊपर चारों तरफ से ता’बड़तो’ड़ फाय’रिंग होने लगी. अचा’नक हुई फा’यरिंग से अपने आप को बचाने के लिए हम लोग जगह-जगह आड़ लेने लगे और छिपने लगे. जैसे ही हम लोगों ने अपने आपको सुरक्षित किया और फा’यर किया. लेकिन टारगे’ट हमें नजर नहीं आ रहे थे क्योंकि हम लोग नीचे थे और वो लोग ऊपर की तरफ थे. पहले ही राउंड की फाय’रिंग में हमारे ज्यादातर लोग घाय’ल हो चुके थे.” 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *