Categories
Other

अगर आपके पास भी है लोन का पैसा या देते हैं EMI तो आपके लिए बड़ी खुशखबरी

कोरोना सं’कट से देश की अर्थव्यवस्था भी रेंग रही हैं. जिसकी वजह केंद्र सरकार ने हर तरह के कदम उठाये हैं ताकि अर्थव्यवस्था को सुधार जा सके. कोरोना से सं’कट की वजह से नौकरी जाने का डर और सैलरी न मिलने की वजह से आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीडिया के सामने आ कर एक बार फिर से सस्ते लोन देने की बात कर रहें हैं.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट ने 0.40 फीसदी की क’टौती का फैसला लिया हैं. आरबीआई की रेपो रेट पहले 4.40 फीसदी से घ’टकर 4 फीसदी हो गया हैं. रेपो रेट कम होने के बाद बैंकों पर ब्याज दर कम करने का दबाव बढेगा. रेपो रेट कम होने के बाद अब लोग सस्ती दरों पर टर्म लोन ले सकते हैं. रेपो रेट कम होने के बाद जो लोग ईमएमआई दे रहें है. वो लोगों उसमे भी बचत कर सकेंगे. इसमें और भी अन्य लोन शामिल हैं जैसे कि ऑटो लोन होम लोन और रिटेल लोन भी शामिल हैं.

आपको बता दें कि इससे पहले भी आरबीआई ने रेपो रेट को लेकर कैं’ची चला चूका हैं. 27 मार्च को आरबीआई गवर्नर ने 0.75 परसेंट की कमी की थी. इससे ये बात साफ़ हो गई हैं कि जो कटौ’ती आरबीआई ने की है उससे लोन सस्ता होगा. पर जिनकी नौकरी जाने का और सैलरी में कटौ’ती होनी की समस्या है. उनको क्या फायदा होगा ये देखनी वाली बात हैं.

आरबीआई गवर्नर ने कहा है कि लोन देने पर 3 महीने की अतरिक्त छूट दी जाएगी. कोरोना की वजह से देश में लॉक डाउन है. जिसको देखते हुए आरबीआई ने बैंकों से कहा था कि वो 3 महीने के लिए लोन और ईएमआई पर छूट दें. आरबीआई के कहने पर अधिकतर बैंकों ने ये तीन महीनो के लिए लागू भी कर दिया हैं. अब जो ऐलान आरबीआई ने किया हैं  उसको देखते हुए ग्राहकों को कुल 6 महीने की छुट मिलेगी. इसका मतलब ये हुआ कि अगर आप 6 महीने तक बैंकों को ईएमआई नहीं दे पा रहें है तो आपको बैंकों की तरफ से कोई भी दबाव नहीं होगा और बैंक आपको डिफाल्टर नहीं मानेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *