Categories
Other

लॉक डाउन का उ’ल्लंघन करने वालो पर परेश रावल का फूटा गु’स्सा,कहा कोरो’ना कोई ध’र्म विशेष को देखकर नहीं होता

कोरो’ना म’हामा’री के चलते पूरे भारत में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है. 21 दिन तक चलने वाले इस लॉकडाउन की मियाद कल पूरी होने वाली है. लेकिन उम्मीद पूरी है की इस लॉकडाउन की मियाद को आगे बढ़ा दिया जायेगा उसका कारण है कुछ लोगों की लापरवाही की वजह से आज देश के अंदर कोरो’ना मरीजों के आंकड़े में इजाफा होता जा रहा है.  ऐसे में लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर सभी राज्य अपनी चिंता व्यक्त कर चुके हैं. देश के कई राज्यों के मुख्यमंत्री अपने यहां आने वाले कुछ समय के लिए लॉकडाउन बढ़ाने की बात कर रहे हैं.

अभी तक नेता और भी लोग जनता से अपील कर रहे थे की आप लोग घर के अंदर रहें और सुरक्षित रहें हैं. बॉलीवुड भी इसमें अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहा हैं. कोरो’ना म’हामा’री के चलते आये दिन कोई न कोई अभिनेता या फिर अभिनेत्री सामने आ कर लोगों को समझती हैं. आज इस काम के लिए खुद परेश रावल सामने उठ कर आये हैं.

कुछ दिन पहले की घटना की लोगों को याद दिला दें कि बीते दिनों निजामुद्दीन में तब्ली’गी जमा’त के मरक’ज में हुए धार्मिक कार्यक्रम में 1800 से ज्यादा लोग शामिल हुए थे. इस बारे में पता चलने पर सभी जमा’तियों का कोरो’ना टेस्ट किया गया जिसमें ज्यादातर कोविड-19 से संक्रमित पाए गए. वहीं इस घ’टना के बाद भारत में कोरो’ना वायरस से संक्र’मित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ी. कुछ लोगों ने इस घ’टना को सांप्रदायिक रूप देने की कोशिश की. इस मामले को लेकर परेश रावल से भी सवाल किया गया. जिसपर परेश रावल खुल कर बोले.

परेश रावल ने कहा, ‘हम देख रहे हैं कि कोरो’ना वायरस कितनी तेजी से लोगों मैं फैल रहा है. इसलिए लॉकडाउन बढ़ाना बेहद जरूरी है. यही हम सभी के लिए सही होगा.’ लॉकडाउन का उल्लं’घन करने वालों पर पुलिस की ब’र्बर’ता दिखाने पर अभिनेता ने कहा कि पुलिस भी कोई मजे नहीं ले रही है, लेकिन जब लोग इस समय परिस्थिति को नहीं समझेंगे तो उन पर सख्ती दिखाना लाज़मी हैं. क्योकि पुलिस अपना फर्ज निभा रही है.

परेश रावल ने कहा कि कोरो’ना कोई धर्म विशेष को देखकर नहीं होता है. लेकिन ये लोग है कि समझने को तैयार ही नहीं होते है. परेश रावल ने सवाल के जवाब में कहा कि, ‘ये कोई धर्म विशेष की बात नहीं है. थूकने और खुले में शौच करने की खबरें आई हैं. इससे कोई इनकार नहीं है. उल्ल’घंन करने वालों को जवाब देना होगा. आत्म’ह’त्या हमारे देश में एक अप’रा’ध है, इसलिए अगर आप दूसरों के जीवन को खत’रे में डाल रहे हैं, तो क्या यह सवाल नहीं उठाया जाना चाहिए?

बात तो सही कही परेश रावल ने और बिलकुल सवाल उठाना चाहिए क्योकि जमा’तियों जो किया हैं वो गलती नहीं है गु’नाह किया है देश के साथ और आज भी कर रहे हैं. इसकी स’जा उन जमा’तियों को मिलनी ही चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *