Categories
Other

कोरोना पर विपक्षी दलों की बैठक में पड़ी फूट, माया और अखिलेश ने शामिल होने से किया इनकार

कोरोना संकट के दौरान आज विपक्षी दलों की बड़ी बैठक होनी है. इस बैठक का मकसद कोरोना संकट और प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरना है. कांग्रेस इस बैठक की अध्यक्षता कर रही है और इस बैठक में शामिल होने के लिए 28 गैर एनडीए दलों को न्योता भेजा गया है. इस बैठक का एक मकसद कोरोना संकट के दौरान मोदी सरकार के सामने विपक्षी एकता को दिखाना भी है. लेकिन बैठक से पहले ही विपक्षी एकता की हवा निकल गई. समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने इस बैठक में शामिल होने से साफ़ इनकार कर दिया. सबसे ज्यादा फजीहत वाली स्थिति आम आदमी पार्टी के लिए रही. उसे इस बैठक के लिए न्योता ही नहीं भेजा गया.

इस बैठक में पहली बार उद्धव ठाकरे भी नज़र आयेंगे. वो अब गैर एनडीए खेमे में है और महाराष्ट्र में कांग्रेस के सहयोग से सरकार चला रहे हैं. मायावती आयर अक्खिलेश की इस बैठक से दूरी उत्तर प्रदेश की राजनीति की तरफ इशारा करती है जहाँ कांग्रेस, प्रियंका गाँधी को योगी आदित्यनाथ के सामने मुख्य विरोधी नेता के तौर पर स्थापित करने की कोशिश कर रही है. मायावती तो पहले विपक्षी दलों की बैठकों में अपने प्रतिनिधि भेजा करती थीं लेकिन इस बार उन्होंने साफ़ इनकार कर दिया इस बैठक में किसी भी तरह की हिस्सेदारी से.

आम आदमी पार्टी को न्योता न भेजने का कारण कोरोना संकट के दौरान केंद्र सरकार के प्रति उसका नरम रुख बताया जा रहा है. दिल्ली चुनाव में शानदार जीत हासिल करने के बाद पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल के सुर बदले हुए हैं और कई बार उन्होंने कोरोना संकट से निपटने में केंद्र की भूमिका की सराहना की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *