Categories
Other

20 लाख करोड़ के पैकेज की तीसरी क़िस्त किसानों के नाम, मछुआरों और पशुपालकों के लिए भी हुई बड़ी घोषणाएं

प्रधानमंत्री मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ के आत्मनिर्भर भारत पॅकेज के तीसरी क़िस्त की जानकारी देने के लिए आज वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण लगातार तीसरे दिन प्रेस कांफ्रेंस करने आईं और किसानों के लिए बड़ी घोषणाएं की. इससे पहले पिछले दो दिनों में वित्त मंत्री ने MSME और प्रवासी मजदूरों के लिए राहत पॅकेज का ऐलान किया था. भारत एक कृषि प्रधान देश है और भारत की कृषि मौसम आधारित है. भारत के किसानों को कभी बाढ़ तो कभी सूखा तो कभी ओले की समस्या का सामना करना पड़ता है. आज वित्त मंत्री का फोकस कृषि, सिंचाई, पशुपालन और मछली पालन पर रहा.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कृषि के बुनियादी ढांचे के लिए सरकार एक लाख करोड़ देगी. ये एग्रीग्रेटर्स, एफपीओ, प्राइमरी एग्रीकल्चर सोसाइटी आदि के लिए फार्म गेट इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के लिए दिया जाएगा जैसे कोल्ड स्टोरेज. लोकल उत्पादों की ब्रांडिंग के लिए 10 हज़ार करोड़ का बजट रखा गया है. यूपी के आम और तमिलनाडू की हल्दी और बिहार के मखाने की ब्रांडिंग की जायेगी. भारत के ऑर्गनिक और हर्बल उत्पादों को वैश्विक बनाया जाएगा.

वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना, इसकी घोषणा बजट में की गई की, कोरोना की वजह से इसे तत्काल लागू किया जा रहा है. मछुआरों को नई नौकाएं दी जाएंगी. 55 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. इससे भारत का निर्यात दोगुना बढ़कर 1 लाख करोड़ रुपये का हो जाएगा. अगले 5 साल में 70 लाख टन अतिरिक्त मत्स्य उत्पादन होगा. मछुआरों के लिए बड़ी घोषणा करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि मछुआरों और उनकी नाव का बीमा किया जाएगा. साथ ही मछुआरों को नयी नौका भी दी जायेगी.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि जानवरों में फुट ऐंड माउथ डिजीज होता है, क्योंकि उनका टीकाकरण नहीं होता, इसलिए दूध के उत्पादन पर असर पड़ता है. अब सभी पशुओं का 100 फीसदी टीकाकरण होगा. जनवरी 2020 तक 1.5 करोड़ गाय,भैंसों का टीकाकरण किया गया. ग्रीन जोन में यह काम जारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *