Categories
Other

बस पॉलिटिक्स में मायावती की एंट्री, प्रियंका गाँधी और कांग्रेस की नीयत पर उठाये सवाल और कहा…

उत्तर प्रदेश में प्रवासी मजदूरों पर जारी बस पॉलिटिक्स में अब बसपा सुप्रीमों मायावती की एंट्री हो गई है. मायावती ने मजदूरों के नाम पर घटिया राजनीति का आरोप लगते हुए कांग्रेस और प्रियंका गाँधी पर निशाना साधा है. मायावती ने तो कांग्रेस या यूँ कहें कि प्रियंका गाँधी की नियत पर ही सवाल खड़े कर दिए. योगी और प्रियंका के बीच जारी बस पॉलिटिक्स की वजह से मायावती और अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश की राजनीति में गौण हो गए थे. प्रियंका की मंशा सपा और बसपा को किनारे लगा कर कांग्रेस को मजबूत विपक्ष के रूप में उभरने की थी इसलिए उन्होंने प्रवासी मजदूरों के मुद्दों को हथिया कर सपा और बसपा को चौंका दिया. लेकिन अब मायावती ने जोरदार एंट्री मारते हुए प्रियंका पर निशाना साधा है.

बुधवार को मायावती ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए भाजपा और कांग्रेस के बीच मिलीभगत का आरोप लगाते हुए कांग्रेस और प्रियंका की मंशा पर सवाल उठाये. बसपा सुप्रीमों ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘पिछले कई दिनों से प्रवासी श्रमिकों को घर भेजने के नाम पर खासकर बीजेपी व कांग्रेस द्वारा जिस प्रकार से घिनौनी राजनीति की जा रही है यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण. कहीं ऐसा तो नहीं ये पार्टियाँ आपसी मिलीभगत से एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करके इनकी त्रासदी पर से ध्यान बांट रही हैं?’

कांग्रेस की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि कांग्रेस मजदूरों के लिए बसों का इंतजाम करने पर ही क्यों जोर दे रही? ट्रेन के टिकट के पैसे भी दे सकती है. उन्होंने ये भी कहा कि यदि कांग्रेस को श्रमिक प्रवासियों को बसों से ही उनके घर वापसी में मदद करनी है तो फिर इनको अपनी ये सभी बसें कांग्रेस-शासित राज्यों में श्रमिकों की मदद में लगा देनी चाहिये.

श्रमिकों को लेकर राजनीतिक रस्साकस्सी जारी है लेकिन इन सब के बीच मजदूरों का पलायन अब भी जारी है. राजनितिक खेल में बेचारे मजदूर पिस रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *