Categories
Other

पेड़ पर डमरू और त्रिशूल बंधा देख जुट गयी सैकड़ों की भीड़, लॉकडाउन भूल लोग करने लगे पूजा

सरकार समझा समझा कर हार गई लेकिन लोगों को समझ नहीं आ रहा कि दुनिया भर के देशों में कोहराम मचाने वाला कोरोना कितना खतरनाक है. लोगों को बस लॉकडाउन तोड़ने का बहाना चाहिए. एक तरफ जहाँ देश भर में मंदिर बंद हैं वहीं दूसरी तरफ झारखण्ड में एक ऐसा दृश्य आमने आया जिसे देख पुलिस के पसीने छुट गए. लोगों के सिर्फ पपर आस्था और अन्धविश्वास इतना सर चढ़ कर बोल रहा है कि वो अपने साथ साथ दूसरों की जान भी खतरे में डाल रहे हैं.

झारखण्ड कके रामगढ़ जीके के कुजू क्षेत्र में एक पेड़ पर डमरू और त्रिशूल बंधा देखा गया. उसके बाद ये खबर आसपास के गाँवों में जंगल की आग की तरफ फ़ैल गई और देखते ही देखते सैकड़ों की स्नाख्या में महिला और पुरुष वहाँ पूजा करने इकट्टे हो गए. लोग पूजा करने के लिए इतने बावले हो रहे थे कि न तो उन्होंने मास्क लगाया और न सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी समझा. एक महिला भक्त तो भक्ति में इतनी भावविभोर हो गई कि वहीं पर धूनी रमा लिया.

लोगों का कहना था कि यहाँ पर शंकर जी विराजमान हो गए हैं इसलिए अब यहाँ दिन रात दीया जलेगा. भीड़ को हटाने में पुलिस को पसीने छूट गए. पुलिस लोगों को हटाती फिर थोड़ी देर में वहां भीड़ इकट्ठी हो जाती. लोग कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे. उन्हें बस उस पेड़ की पूजा करनी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *