Categories
Other

संयुक्त राष्ट्र में चीन के भारत विरोधी प्रोपगैंडा की अमेरिका और जर्मनी ने मिल कर निकाली हवा

चीन हर तरफ अकेला पड़ता जा रहा है. विश्व मानचित्र में पूर्व से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक चीन के खिलाफ घेराबंदी हो रही है. इसके साथ ही भारत के साथ सीमा पर तनाव पैदा करके भी चीन दुनिया की नज़रों में खटक रहा है. अमेरिका, पूर्वी एशिया के बाद अब यूरोप के देश भी खुलकर भारत के पक्ष में आ खड़े हुए हैं. यूरोपीय देश जर्मनी ने अमेरिका के साथ मिलकर संयुक्त राष्ट्र में भारत के खिलाफ चीन के एक साजिश की हवा निकाल दी और चीन के अरमानों पर पानी फेर दिया.

मामला दरअसल ये है कि सोमवार को करांची स्टॉक एक्सचेंज में हुए आ’तंकी ह’मले का इलज़ाम पाकिस्तान ने भारत पर लगाया. उसके बाद चीन ने उस आ’तंकी ह;मले की निंदा का एक प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र में रखा. चीन इस ह’मले में मा’रे गए लोगों के प्रति शोक प्रकट करते हुए पाकिस्तान के साथ अपने मजबूत संबंधों को दर्शाने के मकसद से यह ड्राफ्ट तैयार किया था. इसमें पाकिस्तान में आ’तंकी ह’मला करवाने के लिए भारत की निंदा का भी जिक्र था. लेकिन पहले जर्मनी और फिर अमेरिका ने इस निंदा प्रस्ताव को ही रुकवा दिया.

यूएन में जर्मनी के राजदूत ने कहा कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री एसएम कुरैशी इस ह’मले के लिए भारत को जिम्मेदार बताया है, जो स्वीकार नहीं किया जा सकता. ये कह कर जर्मनी ने इस निंदा प्रस्ताव पर आपत्ति जताई. जर्मनी के बाद अमेरिका ने भी इसपर आपत्ति जताते हुए निंदा प्रस्ताव के प्रेस रिलीज को ही रुकवा दिया. ये न सिर्फ चीन के लिए झटका था बल्कि पाकिस्तान के भी झटका था. दोनों की उम्मीदों पर पानी फिर गया और साथ ही इस घटना से अमेरिका और जर्मनी के साथ भारत के मजबूत होते संबंधों को भी एक नयी दिशा मिली.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *