Categories
News

ममता बनर्जी की वजह से खतरे में आ गया भारत और बांग्लादेश के बीच व्यापार और रिश्ते

एक तरफ देश में कोरोना का कहर बरस रहा है. वही दूसरी तरफ बॉर्डर पर चीन, नेपाल और पाकिस्तान आतं’क मचाये हुए है. ऐसी स्थिति में भारत की पड़ोसी नीति के बीच में पश्चिम बंगाल अपनी टां’ग अ’ड़ाने का काम कर रहा है. दरअसल भारत के खिलाफ जहाँ चीन पड़ोसी देशो को बरगला रहा है. वही पश्चिम बंगाल भी सरकार की नीतियों को विफल करने में लगा हुआ है.

दरअसल हुआ यह है कि ममता सरकार ने मार्च महीने से पेट्रापोल और बेनापोल सीमा के रास्ते बांग्लादेश से आयात पर रोक लगा दी थी. जिसकी वजह से दोनों देशो के बीच द्विपक्षीय व्यापार समझौते को काफी ज्यादा नुकसान भुगतना पड़ रहा है. तो वही अब बांग्लादेश ने भारतीय ट्रकों से सामान के निर्यात पर एक बार फिर रोक लगा दी है. जिसकी वजह से सीमा पर ट्रकों की लम्बी लाइन लग गयी और उनके अंदर रखा सामान अब ख़राब होने लगा है.

दरअसल कोरोना वायरस संक्रमण के चलते लॉकडाउन के कारण पश्चिम बंगाल की पेट्रापोल सीमा से बांग्लादेश के साथ होने वाला सीमा व्यापार भी बंद था इसी वजह से अब बांग्लादेशी व्यापारियों का भी कहना है जब तक भारत बांग्लादेश देश से आयात की अनुमति नही देता तब तक हम भी निर्यात की अनुमति नहीं देंगे और इसी कारण से अब व्यापारी काफी नाराज भी है.

वही अभी तक ममता सरकार के इस कदम के बाद से बांग्लादेश के साथ व्यापार अप्रैल और मई में घटकर 424 मिलियन डॉलर पर सिमट गया. जबकि 2019 में इन्ही महीनों में 2 अरब डॉलर का मुनाफा हुआ था. जाहिर है सीमा पर आयात और निर्यात पर रोक लग जाने से काफी ज्यादा नुकसान हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *