Categories
Other

5 ऐसे लकी खिलाड़ी जो पहले मैच में ही बन गये टीम के कप्तान!

मैच में कई ऐसे खिलाड़ी हुए जिन्हें काफी मुश्किल से मुकाम हासिल हो पाता हैं. लेकिन कई ऐसे खिलाड़ी हुए जिनको पहली ही बार उनके अच्छे प्रदर्शन के वजह से टीम में कप्तानी करने का मौका मिल गया था. आपको बता दें कई ऐसे खिलाड़ी होते हैं जो कम समय में लोगों के दिलों में राज करने लगते हैं. आज हम आपको बताएंगें ऐसे 5 खिलाड़ी का नाम जिन्हें पहली बार में ही कप्तानी का मौका मिला गया. आइये जानते हैं.

1) सीके नायडू: भारतीय टीम ने अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत 1932 में इंग्लैंड के विरुद्ध टेस्ट खेलकर की थी, इस टेस्ट में चंद्र बाबू नायडू को कप्तानी का मौका मिला था. नायडू ने अपने करियर के दौरान 4 टेस्ट मैचों में भारत की कप्तानी की. जिस दौरान 3 मैचो में भारत को हार झेलनी पड़ी जबकि एक टेस्ट ड्रा रहा.

2) महाराज कुमार ऑफ विजयनगरम: नायडू के बाद महाराज कुमार ऑफ विजयनगरम दूसरे खिलाड़ी थे, जिन्हें अपने डेब्यू मैच में कप्तानी का मौका मिला था. वर्ष 1936 में इंग्लैंड के विरुद्ध खेली गयी टेस्ट सीरीज के दौरान उन्हें कप्तानी मिली थी.

3) इफ्तिखार अली खान पटौदी: दाएं हाथ के पूर्व महान  बल्लेबाज इफ्तिखार अली खान पटौदी को वर्ष 1946 में इंग्लैंड दौरे पर डेब्यू का मौका मिला था. इस टेस्ट में पटौदी को टीम की कप्तानी भी दी गयी थी. इफ्तिखार पटौदी ने बतौर कप्तान 1 टेस्ट हारा जबकि 2 टेस्ट ड्रा रहे.

4) अजित वाडेकर: भारतीय टीम ने 1932 में टेस्ट डेब्यू किया था जबकि पहला वनडे वर्ष 1974 में खेला था, इस मैच में दिग्गज अजित वाडेकर को टीम का कप्तानी बनाया गया था, इस तरह वह भारत के पहले वनडे कप्तान बने थे. वाडेकर की कप्तानी में भारत ने खेले दोनों वनडे में टीम को हार मिली थी.

5) वीरेंद्र सहवाग: भारतीय टीम के बेहद कम फैन्स के जानते होगे कि अन्तराष्ट्रीय टी-ट्वेंटी में भारत के पहले कप्तान वीरेंद्र सहवाग थे. भारत ने वर्ष 2006 में साउथ अफ्रीका की सरजमी पर पहला टी20 खेला था, इस मैच में सहवाग ने बतौर कप्तान टीम इंडिया को जीत दिलाई दी हालाँकि इस मैच के बाद उन्हें दोबारा टी20 में भारत की कप्तानी का मौका नहीं मिला.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *