Categories
Other

बस के नाम पर ऑटो और बाइक, प्रियंका के निजी सचिव पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज

उत्तर परदेश में मजदूरों के नाम पर हो रही राजनीति अब एक नए मोड़ पर आ गई है. प्रियंका गांधी की तरफ से उपलब्ध कराये गए बसों की लिस्ट की जब जांच की गई तो उनमे से कई ऑटो, प्राइवेट कार और बाइक निकले. इसके बाद तो जैसे महाभारत मच गया. यूपी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू  फतेहपुर बॉर्डर पर हंगामा करने लगे. उनका कहना था कि उनकी 1000 बसें आगरा बॉर्डर पर खड़ी हैं लेकिन यूपी पुलिस उन्हें घुसने नहीं दे रही. इस बात को लेकर अजय कुमार लल्लू की पुलिस से बहस भी हो गई. बात जब हद से आगे बढ़ गई तो अजय कुमार लल्लू को पुलिस ने हिरासत में ले लिया.

इधर धोखाधड़ी के आरोप में प्रियंका के निजी सचिव के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई. लखनऊ आरटीओ आरपी द्विवदी ने एक हजार बसों की सूची के मामले में प्रियंका गाँधी के निजी सचिव संदीप सिंह और प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में एफआईआर दर्ज कराई है. ये FIR लखनऊ के हजरतगंज थाने में दर्ज कराई गई. आरोप है कि बसों की सूची की जांच में ऑटो, एंबुलेंस व बाइक के नंबर मिले. बताया जा रहा है कि कई वाहन तो चोरी के भी हैं.

उसके बाद कांग्रेस और भाजपा के बीच ट्वीट वार शुरू हो गया. प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर आरोप लगाये कि मजदूरों की मदद करने से रोकने के लिए यूपी सरकार बाधाएं खड़ी कर रही है. प्रियंका गाँधी ने ट्वीट कर कहा, ‘उप्र सरकार ने हद कर दी है। जब राजनीतिक परहेजों को परे करते हुए त्रस्त और असहाय प्रवासी भाई बहनों को मदद करने का मौका मिला तो दुनिया भर की बाधाएँ सामने रख दिए। आदित्यनाथ जी इन बसों पर आप चाहें तो भाजपा का बैनर लगा दीजिए, अपने पोस्टर बेशक लगा दीजिए लेकिन हमारे सेवा भाव पर शक मत कीजिये.

उधर बसों की लिस्ट में हेरफेर की बात सामने आने के बाद ट्विटर पर प्रियंका वाड्रा बस घोटाला ट्रेंड करने लगा और प्रियंका गांधी लोगों के निशाने पर आ गई. दूसरी तरफ कांग्रेस शासित राज्य राजस्थान में ही प्रवासी मजदूर पैदल मार्च करने को मजबूर हैं और प्रियंका गाँधी बजाये राजस्थान में बसें उपलब्ध करने के यूपी में खाली बसें भेज रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *