Categories
News Other

पाकिस्तान के मंत्री को लोगों ने किया ट्रोल, कहा कि पहले अपनी अंग्रेजी ठीक कीजिए. फिर भारत की बात करना

आज सभी देश कोरोना वायरस से जूझ रहे है. कोरो’ना वायरस की वजह से पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है. चाहे अमेरिका हो या भारत सभी देश आज कोरो’ना की वजह से ठहर से गये हैं. इसी बीच पाकिस्तान की तरफ से एक खबर आ रही है. जो की एक तरह का पाकिस्तान की ही मजाक उड़ाने वाली खबर है. पाकिस्तान खबरों में बने रहने के लिए कुछ न कुछ करता रहता है.

पाकिस्तान अपने को चर्चा में रखने के लिए उटपटांग काम करता रहेता है. ऐसा ही कुछ पाकिस्तान   सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी जो हमेशा अपने बयानों और ट्वीट को लेकर चर्चा में बने रहते हैं. वे अमूमन सोशल मीडिया पर कुछ ऐसा लिख देते हैं. जिससे वो खुद मज़ाक के पात्र बन जाते हैं और लोग उनको ट्रोल करने लगते है. शुक्रवार को भी फवाद ने कुछ ऐसा ही किया. उन्होंने कोरो’ना वायरस को लेकर भारत को नसीहत देते हुए ट्वीट किया जिसके कारण वह बुरी तरह ट्रोल हो गए.

फवाद चौधरी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘भारतीयों को कोरो’ना वायरस लॉकडाउन से ये सबक लेना चाहिए कि राजनीतिक दबाव का समर्थन कभी न करें. मोदी सरकार ने कश्मीर के अनिश्चितकालीन लॉकडाउन के जरिए लोगों को दर्द दिया. भारत यह दर्द म’हामा’री की वजह से नहीं बल्कि इस वजह से झेल रहा है, क्योंकि भारत का राजनीतिक नेतृत्व फेल हुआ. एक बात समझ नही आई की पाकिस्तान अपने गिरेबान में पहले झांक ले उसके बाद भारत जैसे देश को सलाह दें.आपको बता दें कि या ट्वीट फवाद ने अंग्रेजी में किया था. जिसके बाद उनका मज़ाक बनना शुरू हो गया.

लोगों ने उनके द्वारा किये गए ट्वीट को लेकर उनको सलाह देना शुरू कर दिया. पाकिस्तान के मंत्री को लोगों ने ट्रोल करते हुए कहा कि पहले अपनी अंग्रेजी ठीक कीजिए. फिर भारत की बात करना. दरअसल उनके ट्वीट में कई शब्दों की स्पेलिंग गलत लिखी हुई थी. उन्होंने ट्वीट में India (इंडिया) को Endia, Corona Lockdown (कोरोना लॉकडाउन) को CoronaLockddow (कोरोना लॉकडाउ) और Pandemic (महामारी) को Pendemic (पेनडेमिक) लिखा. लोग अभी यहां पर रुके नही उन्होंने Because (क्योंकि) को Becauuse लिखा. जिसे लेकर लोगों ने उनकी काफी खिंचाई की.

फवाद को अंग्रजी नही आती है ये बात आज साफ हो गई. लेकिन फवाद को अपने गिरेबान में देखना चाहिए भारत को नसीहत देने से पहले. क्योकि पकिस्तान भारत के आस पास भी नहीं हैं.
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *