Categories
Other

क्रिकेट के ऐसे 10 कमाल के रिकॉर्ड, जो कभी नहीं टूटेंगे!

क्रिकेट के खेल में हर दिन कोई ना कोई रिकॉर्ड बनता और टूटता ही रहता है. पर कुछ ऐसे भी कारनामें होते हैं जिनको तोड़ना शायद मुश्किल ही रहेगा. आज हम आपको बताएँगे क्रिकेट के इतिहास में अब तक बने वह 10 वो रिकॉर्ड जो शायद ही टूट पाएंगे या कभी नहीं टूटेंगे.

1. डॉन ब्रैडमैन : टेस्ट में 99.94 की बल्लेबाजी औसत : 67 साल पहले डॉन ब्रैडमैन टेस्ट क्रिकेट से रिटायर हो गए थे, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाजी औसत का उनका रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़ पाया और संभवत: आगे भी नहीं टूटेगा. ब्रैडमैन ने 99.94 की औसत से रन बनाए, जबकि उनके बाद सबसे अच्छी औसत की लिस्ट में जो दूसरा बल्लेबाज है, वो हैं दक्ष‍िण अफ्रीका के ग्रीम पोलाक. पोलाक की बल्लेबाजी औसत है-60.97.

2. सचिन तेंदुलकर : वनडे क्रिकेट में 18426 रन : सचिन का वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा 18426 रन बनाने का रिकॉर्ड तोड़ना भी फिलहाल तो नामुमकिन जैसा ही है. इस लिस्ट में सचिन से नीचे जो बल्लेबाज हैं, वो सभी वनडे क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं.

3. मुथैया मुरलीधरन : 1347 बल्लेबाजों का शिकार : इंटरनेशनल क्रिकेट में दो ही गेंदबाज 1000 विकेट के आंकड़े के पार पहुंचे. पहले मुथैया मुरलीधरन और दूसरे शेन वॉर्न. मुरली ने 1347 विकेट लिए, जबकि वॉर्न 1001 के आंकड़े से आगे नहीं बढ़ पाए. मुरली का रिकॉर्ड तोड़ने की बात तो दूर, अब तो कोई गेंदबाज इंटरनेशनल क्रिकेट में एक हजार विकेट लेने के बारे में भी नहीं सोचता.

4. जैक होब्स: फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 61760 रन : इंग्लैंड के सर जैक होब्स ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में बल्लेबाजी की जो क्लास दिखाई, आज की क्रिकेट में कोई उसके आसपास तक भी पहुंचने की क्षमता नहीं रखता. आपको जानकर हैरानी होगी कि सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, सुनील गावस्कर, रिकी पोटिंग और ब्रायन लारा जैसे बल्लेबाज तो फर्स्ट क्लास क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले टॉप 10 बल्लेबाजी की लिस्ट में भी नहीं हैं.

5. जिम लेकर: एक टेस्ट में 19 विकेट : इंग्लैंड के जिम लेकर ने 1956 में इंग्लैंड के खिलाफ एक टेस्ट में 19 विकेट लेने का जो रिकॉर्ड बनाया था, उसे इतने सालों में तोड़ना तो दूर, इस रिकॉर्ड की कोई बराबरी भी नहीं कर पाया. जाहिर है जो ये रिकॉर्ड तोड़ेगा, उस गेंदबाज को टेस्ट मैच की दोनों पारियों में सभी 20 विकेट लेने होंगे.

6. ग्राहम गूच: एक टेस्ट में 456 रन : ग्राहम गूच ने यह रिकॉर्ड टीम इंडिया के खिलाफ 1990 में बनाया था. उन्होंने पहली पारी में 333 और दूसरी में 123 रन बनाए थे. उसके बाद ब्रायन लारा ने एक पारी में 400 रन बनाने का रिकॉर्ड भी बना दिया, लेकिन लारा समेत कोई बल्लेबाज अब तक यह रिकॉर्ड ध्वस्त नहीं कर पाया.

7. विल्फ्रेड रोड्स: फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 4204 विकेट : आपको जानकर हैरानी होगी कि इंग्लैंड के इस दिग्गज क्रिकेटर ने 1110 फर्स्ट क्लास मैच खेले थे और वह फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 4 हजार विकेटों का आंकड़ा पार करने वाले दुनिया के अकेले क्रिकेटर हैं. पिछले तीस सालों में कोई गेंदबाज टॉप 25 फर्स्ट क्लास बॉलरों की सूची में भी जगह तक नहीं बना पाया तो ये रिकॉर्ड टूटना तो बहुत दूर की बात है.

8. चामिंडा वास: एक वनडे मैच में 8 विकेट : श्रीलंका के खब्बू गेंदबाज चामिंडा वास ने 2001 में सिर्फ 19 रन देकर 8 विकेट लिए थे. आज तक उनके रिकॉर्ड की कोई बराबरी तक नहीं कर पाया.

9. क्रिस गेल: 30 गेंदों में शतक : क्रिस गेल ने दो साल पहले आईपीएल में महज 30 गेंदों में शतक ठोककर टी 20 का सबसे तेज सैंकड़ा बनाया था. गेल का यह रिकॉर्ड तोड़ने के लिए हर गेंद पर तीन रन से ज्यादा की औसत चाहिए. ऐसे में इस रिकॉर्ड के टूटने के बारे में सोचना भी बहुत मुश्किल लगता है.

10. फिल सिमंस: 10 ओवर में 3 रन : वनडे क्रिकेट में 0.3 की इकॉनोमी. पढ़कर चौंक गए, लेकिन वेस्टइंडीज के फिल सिमंस 23 साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ यह कारनामा कर चुके हैं. सिमंस ने सिडनी में खेले गए वनडे मैच में 10 ओवर में 8 मेडेन के साथ सिर्फ 3 रन दिए थे और 4 विकेट झटके थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *