Categories
Other

कोरोना वायरस को लेकर ऑक्सफर्ड वैक्सीन की तरफ से आई खुशखबरी, भारत निभाएगा अहम रोल

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले रखा है. कोरोना वायरस के घा’तक बी’मारी बनता जा रहा है भारत के अंदर कोरोना वायरस से सं’क्रमित लोगों का आंकड़ा 11 लाख के करीब पहुँच चूका है. कोरोना वायरस की अभी तक कोई भी दवा नहीं बन पाई है. लेकिन अब कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन तैयार करने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है. अब कोरोना वैक्सीन को लेकर एक खुशखबरी सामने आ रही है.

कोरोना वायरस के खा’त्मे के लिए ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और फार्मासूटिकल कंपनी AstraZeneca की इस वैक्सीन (AZD1222) ने कोरोना पर मानों पहली जीत दर्ज कर ली है. इस वैक्सीन का पहला और दूसरा फेज़ के ट्रायल में सफलता हासिल कर ली है जो की एक बड़ी उपलब्धि है. अब इसका तीसरे फेज़ का ट्रायल चल रहा है. बता दें भारत में इसकी लॉन्चिंग से पहले वैक्सीन का ट्रायल भारत में भी किया जाएगा.

कोरोना वैक्सीन को बनाने में एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की तरफ से  वैक्सीन विकसित करने में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया का भी साथ मिल रहा है. बता दें की सीरम दुनिया में दवा बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी है. इस देसी कंपनी के सीईओ अदार पूनावाला का कहना है कि ‘कंपनी एक हफ्ते के अंदर इसका क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने का लाइसेंस लेने के लिए भारतीय दवा नियामक के पास आवेदन करेगी.’

भारतीय कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ‘पहले ही इस बात का ऐलान कर चुकी है कि वह जितनी भी वैक्सीन बनाएगी उसका 50 प्रतिशत हिस्सा भारत और 50 प्रतिशत बाकी देशों के लिए होगा’. ऐसे में भारत को आधी खेप यानी की आधी  खुराक मिल सकती है.  पूनावाला ने बताया की वैक्सीन इस साल के अंत तक आ सकती है लेकिन इसकी कीमत को लेकर इस पर बात करना जल्दबाजी होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *