Categories
Other

कांग्रेस की सख्त चेतावनी, अगर जयपुर में पार्टी की मीटिंग में नहीं शामिल हुए सचिन पायलट तो पार्टी…

राजस्थान में सचिन पायलट के बगावती तेवर से भले ही गहलोत सरकार खतरे में आ गई है. लेकिन कांग्रेस सचिन पायलट से किसी भी तरह के समझौते के मूड में नहीं है. कांग्रेस ने साफ़ कर दिया है कि 11 बजे होने वाली बैठक में अगर सचिन पायलट नहीं आये तो उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया जाएगा. कांग्रेस की धमकियों से सचिन पायलट भी झुकने के मूड में नहीं है. जिस तरह से बगावती तेवर उन्होंने अपनाए हैं , ऐसे में अगर वो कांग्रेस के साथ किसी भी तरह का समझौता करते हैं तो पार्टी में उनकी हैसियत क्या रह जायेगी इसका उन्हें अहसास है. दूसरी तरह सचिन पायलट ने ये भी देख लिया है कि उनके दोस्त ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा ने हाथों हाथ लिया. ऐसे में भाजपा ही उन्हें अपने लिए मुफीद जगह दिख रही है. पायलट ने साफ़ कर दिया है कि वो विधायकों की मीटिंग में नहीं जायेंगे.

कांग्रेस ने राजस्थान का किला बचाने के लिए तीन नेताओं को आधी रात ही जयपुर भेजा था. आज केसी वेणुगोपाल भी जयपुर पहुँच रहे हैं और विधायकों की मीटिंग उनकी देख रेख में ही होगी. गहलोत गुट कह रहा है कि उनके पास 109 विधायकों का समर्थन है जबकि कल आधी रात को हुई मीटिंग में बस 75 विधायक ही पहुंचे. जबकि सचिन पायलट ये दावा कर रहे हैं कि उनके साथ 30 विधायक है. साथ मे कुछ निर्दलीय विधायक भी उनके साथ हैं. ऐसे में किस आधार पर अशोक गहलोत 109 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहेहैं ये 11 बजे की मीटिंग में ही पता चलेगा.

भाजपा इस पूरे मसले पर पूरी सतर्कता के साथ अपने पत्ते खोल रही है. पार्टी एक तरफ तो इसे कांग्रेस का अंदरूनी झगडा बता रही है वहीँ दूसरी तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया को सचिन पायलट से बात करने के लिए आगे भी कर रही है. खबर ये भी आ रही है कि सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक कांग्रेस से इस्तीफ़ा देंगे. खबरे ये भी आ रही है कि आज सचिन पायलट भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात कर सकते हैं. राजस्थान की राजनीति बहुत दिलचस्प हो चुकी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *