Categories
Other

कानपुर कि’डनैपिं’ग-म’र्डर मामले पर सीएम योगी की बड़ी का’र्रवा’ई,एडिशनल SP सहित चार पुलिसकर्मी सस्पें’ड

पिछले कुछ वक़्त से उत्तर प्रदेश का कानपुर सुर्ख़ियों में बना हुआ है. कुछ दिन पहले विकास दुबे की वजह से कानपुर चर्चा में था. अब एक और काण्ड कानपुर में सामने आया है. जिसको लेकर सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने कड़े तेवर अपना लिए है और कई पुलिसकर्मियों पर भी गाज़ गिरी है. उसका कारण है की पुलिस की लापरवाही की वजह से कानपुर के बर्रा में लैब असिस्टेंट संजीत यादव को लेकर खबर सामने आई है.

कानपुर में लैब असिस्टेंट संजीत यादव के अ’पहर’ण और ह’त्या के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है. सीएम योगी ने आईपीएस अफसर अपर्णा गुप्ता, तत्कालीन डिप्टी एसपी मनोज गुप्ता समेत चार अधिकारियों को स’स्पेंड कर दिया है. प्रदेश में बढ़ते क्राइ’म से सीएम योगी नाराज हैं और कई अफसरों पर कार्रवाई हो सकती है.

कानपुर चर्चा का विषय बना हुआ पिछले महीने से पहले कानपुर के बिकरू गाँव में विकास दुबे ह’त्याकां’ड का मामला और अब कानपुर के बर्रा से खबर आ रही है कि यहां लैब असिस्टेंट संजीत यादव का पहले अ’पहर’ण होता है. उसके बाद उत्तर प्रदेश पुलिस के भरोसे घर वाले 30 लाख की फि’रौती जुटाने के लिए अपने गहने और जेवर बेचते है. उसके बाद उन बदमा’शो को 30 लाख की फि’रौती दे दी जाती है. लेकिन उसके बाद संजीत यादव की ह’त्या कर दी जाती है और कानपुर की पुलिस सिर्फ हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती है.

कानपुर के बर्रा में संजीत यादव की ह’त्या के बाद उसकी बहन का आ’रोप है कि पुलिस ने कोई भी कार्य’वाई नहीं की इस पर चुप चाप बैठी रही और मेरे भाई की मौ’त के जिम्मेदार ये सभी पुलिस वाले हैं. उधर दूसरी तरफ पुलिस ने कहा है कि संजीत के अ’परह’ण में उसके कुछ दोस्त शामिल थे. पुलिस ने दो लोगों को गि’रफ्ता’र भी किया है.

आरो’पितों ने पूछताछ में ये भी बताया कि पैसों के लालच में संजीत का अ’पह’रण किया था, क्योंकि वो बोलता था कि उसके पास बहुत पैसे हैं. आरो’पि’तों ने फि’रौती की रकम मिलने से इनकार कर दिया है. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि आखिर फिरौती का बैग गया तो गया कहां.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *