Categories
Other

शेर के इतने करीब जाने के बावजूद जिंदा वापस आया युवक, वजह हैरान कर देगी

शेर के बाड़े में कूदने की घटना चिड़ियाघर के कर्मचारियों में चर्चा का विषय बन गई है। इस घटना ने हर किसी को ये सोचने पर मजबूर कर दिया की आखिर ऐसा क्या हुआ कि रेहान शेर के मुह का निवाला बनते -बनते बच गया ।

बचाव दल के एक कर्मचारी से पता चला कि शेर सुंदरम को 17 नंबर के बाड़े में हर रोज़ खाना दिया जाता है , हर रोज़ शाम 4 से 5 के बीच , और थोडा भोजन सुबह के लिए भी उसके बाड़े में रख दिया जाता है ताकि जब सुंदरम को भूख लगे तो उसे मांसाहारी खाना समय पर मिल जाए । सुबह 9 से 10 के बीच शेर के टहलने के लिए भी बाड़े को खोल दिया जाता है ।

  कर्मचारियों ने बताया कि गुरुवार को शेर सुंदरम खाना खा चुका था जिस वजह से उसका पेट भरा हुआ था इसिलए वह बाड़े में टहल रहा था । चिड़ियाघर के कर्मचारियों से यह बात भी पता चली कि जब शेर को भूख नही होती है तो वह किसी को अपना शिकार नही बनाता है और ऐसा ही कुछ रेहान के साथ हुआ , अब उसकी किस्मत अच्छी रही होगी तभी तो शेर के इतने करीब होने के बाद भी वो सही सलामत बच गया ।

कर्मचारियों ने बताया कि गुरुवार को शेर सुंदरम खाना खा चुका था जिस वजह से उसका पेट भरा हुआ था इसिलए वह बाड़े में टहल रहा था । चिड़ियाघर के कर्मचारियों से यह बात भी पता चली कि जब शेर को भूख नही होती है तो वह किसी को अपना शिकार नही बनाता है और ऐसा ही कुछ रेहान के साथ हुआ , अब उसकी किस्मत अच्छी रही होगी तभी तो शेर के इतने करीब होने के बाद भी वो सही सलामत बच गया ।

बाड़े में शेर ने रेहान पर पंजे भी मारे थे , लेकिन इन पंजो कि मार बहुत मामूली थी जिस वजह से रेहान के शरीर पर किसी भी चोट के निशान नही मिले । कर्मचारीयों ने बताया कि जब बचाव दल के लोग बाड़े में पहुचें तो शेर ने उस वक़्त भी किसी पर हमला नही किया । उनका कहना था कि शेर सुंदरम सिर्फ 10 वर्ष का है जो स्वभाव से काफी सरल है । वह किसी को ज्यादा परेशान नही करता , आजतक कभी किसी ने उसका आक्रम रूप नही देखा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *