Categories
Other

राजस्थान कांग्रेस में घमासान तेज, आ’तंकवा’द निरोधक दस्ते ने सचिन पायलट को पूछताछ के लिए बुलाया

राजस्थान कांग्रेस में घमासान तेज हो गया है. उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट बगावत पर उतारू हैं और अशोक गहलोत उन्हें दबाने के लिए हर नैतिक-अनैतिक कदम उठा रहे हैं. गहलोत कैबिनेट की बैठक छोड़ कर सचिन पायलट दिल्ली में जमे हुए हैं. ठीक उसी तरह जैसे होली के वक़्त कांग्रेस की चूलें हिलाने से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल छोड़ कर दिल्ली में जम गए थे. पायलट के साथ 24 विधायक भी हैं. मामला तब और बिगड़ गया जब सरकार गिराने की साजिश को लेकर आ’तंकवा’द निरोधक दस्ते (ATS) और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) ने सचिन पायलट से पूछताछ के लिए उन्हें नोटिस भेजा. ये सचिन पायलट के लिए बेहद अपमानजनक स्थिति है. राजस्थान में इस वक़्त जो हालत है उससे कांग्रेस की नींदें उड़ी हुई है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने राजस्थान के राजनीतिक हालात पर ट्वीट करते हुए लिखा, ‘पार्टी के लिए चिंतित हूँ. क्या हम हमेशा तभी जागेंगे जब हमारे अस्तबल से घोड़े चोरी हो जायेंगे.’ यहाँ अस्तबल का मतलब राज्य कांग्रेस और घोड़े मतलब विधायक है.

सबसे दिलचस्प बात ये है कि मध्य प्रदेश की तरह राजस्थान कांग्रेस में मचे घमासान के दौरान पार्टी का शीर्ष नेतृत्व मामला सुलझाने की बजाये हाथ पर हाथ धरे तमाशा देख रहा है. शनिवार को देर रात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने सभी विधायाकोंकी एक मीटिंग बुलाई लेकिन इस बैठक से सचिन पायलट और और उनके गुट के 24 विधायक इस मीटिंग में नहीं पहुंचे. उसके बाद जब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तरफ से गायब विधायकों को फोन लगाया गया तब सबके फोन स्विच ऑफ़ निकले. उसके बाद पता चला कि ये सभी विधायक गुरुग्राम के एक होटल में हैं. देर रात सचिन पायलट भी दिल्ली पहुँच गए. बताया जा रहा है कि सचिन पायलट भाजपा के संपर्क में हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *